अनाज वर्षा की कमी से चावल उत्पादक परेशान

खपत देख बादाम ने पकड़ी तेज की चाल
September 5, 2017
मक्का में सुधार
September 5, 2017
Show all

अनाज वर्षा की कमी से चावल उत्पादक परेशान

उत्पादकता प्रभावित होने का खतरा
दिल्ली। नई आवक को देख धान में लिवाल का अभाव दिनों दिन बढ़ता जा रहा है। इसलिए चावल में भी गिरावट का रूख आगामी दिनों रहने की संभावना है।
कृषि मंत्रालय के अनुसार देश में चावल (धान) की बिजाई गत वर्ष की तुलना में अधिक है। जैसे—जैसे बिजाई के आंकड़े सामने आयेंगे वैसे—वैसे ही बिक्री का दबाब बढ़ेगा, जो कीमत घटाने रमें अहम भूमिका अदा करेगा।
आंकड़ों के अनुसार 1 अगस्त को क्रेन्द्रीय 23.70 मिलियन मीट्रिक टन रहा, जो पिछले वर्ष इसी समय 24.17 लाख टन रहा था। इन आंकड़ों को देख कहा जा सकता है कि स्टॉक में 1.95 प्रतिशत की कमी आई हैं इसके असर से कीमत आगामी दिनों प्रभावित नहीं होगी।
बिजाई के आंकड़ों को देख अधिकांश कारोबारी और विशलेषक उत्पाउदन बढ़ने की संभावना व्यक्त कर रहे हैं जो मौसम के ऊपर निर्भर करेगी।
व्यापार भास्कर के अनुसार इस वर्ष उत्पादकों को धान की आकृषक कीमत प्राप्त हुई थी। इसलिए बिजाई क्षेत्र में वृद्धि आनी निश्चित थी इस वर्ष शुरूआती दौर में वर्षा होने के कारण उत्पाकदों को बिजाई में मौसम का सहयोग मिला लेकिन पिछले 15/20 दिनों से वर्षा का अभाव है। जिसके कारण उत्पादक परेशान हैं जैसे—जैसे समय बढ़ रहा है। उत्पादकों की परेशानी बढ़ती जा रही है। हालात ऐसे बन रहे हैं कि आगामी 10/15 दिनों वर्षा नहीं होती है तो उत्पादन के अनुमान में काफी कटौती हो सकती है। फिर भी चालू कीमत में वृद्धि के आसार नहीं हैं क्योंकि जैसे—जैसे समय बढ़ेगा वैसे—वैसे फसल का दबाब बाजार पर पड़ेगा।

Comments are closed.